BusinessteachnologyTop News

दिल्ली एनसीआर के बाजार में अटॅमबर्ग ने उतारे गोरिल्ला रेनेसा स्मार्ट प्लस आई ओ टी स्मार्ट पंखे

Spread the love

गुड़गांव, 20 जून 2019ः अटॅमबर्ग टेक्नोलॉजिज ने आज दिल्ली एनसीआर के लोगों के लिए 65 प्रतिशत तक की बिजली की बचत करने वाले स्मार्ट पंखे पेश किए जिन्हें वाईफाई, एलेक्सा और गूगल होम के जरिए भी चलाया जा सकेगा। इस पेशकश के साथ कंपनी ने यह भी घोषणा की कि कंपनी के लिए भारत में बिजनेस एवं विकास के मामले में दिल्ली एनसीआर सबसे अधिक महत्वपूर्ण बाजार है।
अटॅमबर्ग टेक्नोलॉजिज बिजली की बचत करने वाले गोरिल्ला पंखों के उत्पादन के व्यवसाय में सक्रिय स्मार्ट एवं दक्ष मोटर आधारित प्रमुख कंपनी है जिसका मुख्यालय मुंबई में है।
आज आयोजित एक संवाददता सम्मेलन में कंपनी ने यह घोषणा करते हुए गोरिल्ला रेनेसा स्मार्ट पंखे लांच किए जो स्मार्ट उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुओं की श्रेणी में नवीन तकनीकों से युक्त हैं। ये पंखें  वाईफाई  से युक्त है, ऍप से संचालित हो सकते हैं और ये एलेक्सा एवं गुगल होम से भी चलाए जा सकते हैं। गोरिल्ला रेनेसा स्मार्ट प्लस पंख पूरी गति में 28 वाट बिजली की खपत करते हैं और इस तरह से ये पंखे 65 प्रतिशत बिजली बचाने में मदद करते हैं। वर्तमान समय में कंपनी हैदराबाद, चेन्नई, मुंबई, बैंगलोर, दिल्ली एनसीआर, अहमदाबाद, कोलकाता और पुणे में अपने व्यवसाय का संचालन कर रही है और कंपनी को अगले दो वर्षों के भीतर प्रीमियम पंखों के बाजार में अपनी 10 प्रतिशत हिस्सेदारी की उम्मीद कर रही है।
भारत में फैन मार्केट (पंखों का बाजार) 10,000 करोड़ रुपये का है, जिसमें से प्रीमियम सीलिंग फैन का बाजार 1500 करोड़ रूपए का है और जिसमें हर साल 25 प्रतिशत की दर से बढोतरी हो रही है। अटॅमबर्ग इस बाजार के 10 प्रतिशत हिस्से पर कब्जा करने के लक्ष्य को लेकर आगे बढ़ रही है और अटॅमबर्ग टेक्नोलॉजीज ने 2018-19 में आमदनी के मामले में पहले से ही 3 प्रतिशत की बढ़ोतरी की है।
देश भर में अपनी तीन लाख से अधिक इकाइयों के साथ कंपनी ने वर्ष 2019 के पहले क्वाट्रर में 100 करोड़ से अधिक का वार्षिक राजस्व दर हासिल किया। कंपनी ने ई – कॉमर्स में 10 प्रतिशत बाजार की हिस्सेदारी के साथ सभी मेट्रो शहरों में रिटेल उपस्थिति भी दर्ज की है। इसके उत्पाद अमेज़न, फ्लिपकार्ट और उसकी खुद की वेबसाइट पर आसानी से उपलब्ध हैं।
चूँकि अधिकांश क्षेत्रों में ऑफलाइन बिक्री से ऑनलाइन रिसर्च अग्रणी है वैसे में अटॅमबर्ग ने व्यापक उपभोक्ताओं की जरूरतों को पूरा करने के लिए इन शहरों में ऑफ़लाइन वितरण नेटवर्क स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। एटोमबर्ग ने पूरे शहर के सभी प्रमुख इलेक्ट्रिकल काउंटरों और बाजारों में उपस्थिति बनाते हुए मजबूत वितरण नेटवर्क स्थापित किया है। दिल्ली एनसीआर में, अटॅमबर्ग तेजी से अपने नेटवर्क का विस्तार कर रहा है और शहर भर में फैले 100 से अधिक शीर्ष प्रीमियम इलेक्ट्रिकल काउंटरों में मौजूदगी दर्ज की है। दिल्ली एनसीआर में ऑफ़लाइन बाजार से जबर्दस्त प्रतिक्रिया मिल रही है और गर्मियों के मौसम में सभी मॉडलों की अभूतपूर्व शुरुआती बिक्री देखी गई है।
उपभोक्ताओं के ऑनलाइन व्यवहार का विश्लेषण करते हुए, अटॅमबर्ग टेक्नोलॉजिज 2019-20 तक ऑफ़लाइन और ऑनलाइन माध्यमों में से प्रत्येक में 50-50 बिक्री की उम्मीद कर रही है। अटॅमबर्ग टेक्नोलॉजिज के सीईओ एवं सह-संस्थापक, मनोज मीणा ने कहा, “दिल्ली एनसीआर निर्धारित वृद्धि और बढ़ते व्यापार के मामले में एटोमबर्ग के लिए एक अत्यधिक रोमांचक बाजार है। गुड़गांव में कॉरपोरेट और स्मार्ट हाउसिंग कल्चर के बढ़ने के साथ, इस शहर में बहुत अधिक संख्या में धनाढ्य और युवा लोग अचल संपत्तियां हासिल करने की आकांक्षा के साथ बस रहे हैं। इसलिए, यहां बहुत बड़ा सुअवसर है और हम अगले कुछ वर्षों में इसका लाभ उठाने की रणनीति पर काम कर रहे हैं।’
उन्होंने कहा, “अटॅमबर्ग का नया गोरिल्ला रेनसा स्मार्ट प्लस इस स्मार्ट-टेक बाजार में गेम चेंजर बनने जा रहा है। स्मार्ट होने के अलावा, यह भारत का सबसे अधिक ऊर्जा दक्ष पंखा है और आम पंखों की तुलना में यह यह इन्वर्टर पर तीन गुना अधिक समय तक चलता है। गुड़गांव में एक परिवार इन पंखों का उपयोग करके आसानी से प्रति वर्ष -प्रति पंखे पर 1500-2000 रूपए तक बचा सकता है।“
पूरे भारत में 300 सर्विस सेंटरों के साथ, अटॅमबर्ग पंखे तीन साल की वारंटी के साथ उपलब्ध कराए जा रहे हैं जबकि पूरे भारत में पंखा उद्योग केवल एक साल की वारंटी देता है। अपने उत्पादों के जरिए कंपनी ने अब तक देश में दस लाख लोगों के जीवन में अपनी जगह बनाई है।
अटॅमबर्ग टेक्नोलॉजीज के बारे में
अटॅमबर्ग स्मार्ट और कुशल मोटर आधारित घरेलू उपकरण कंपनी है और यह नवाचार और प्रौद्योगिकी के माध्यम से भारतीय उपभोक्ताओं के जीवन को बेहतर बनाने के लिए कार्य कर रही है। यह कंपनी भारत के सबसे अधिक ऊर्जा दक्ष पंखों का उत्पादन कर ही है जिन्हें गोरिल्ला पंखे के रूप में जाना जाता है।
कंपनी के सहसंस्थापक हैं मनोज मीणा और सिबब्रता दास जो आईआईटी, बम्बई से स्नातक हैं। इन दोनों ने बीएलडीसी प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अच्छा खासा अनुभव हासिल किया और इसके उपरांत इन्होंने 2015 में सीलिंग पंखे के क्षेत्र में प्रवेष किया। बाद में इन्होंने आईडीएफसी परम्परा से 2016 में एक मिलियन डॉलर   की प्री-सीरीज ए फंडिंग जुटाई।
कंपनी को अपनी आरएंडडी क्षमताओं, नवाचार और प्रौद्योगिकी पर गर्व है। कंपनी ने नए युग के विकसित उपभोक्ताओं के लिए क्रांतिकारी उत्पाद बनाई है। इसके पास नवी मुंबई में 50000 पंखे हर माह बनाने की क्षमता वाला पूर्णतः एकीकृत उत्पादन केन्द्र है। पूरे भारत में इस कंपनी के 300 से अधिक सर्विस केन्द्र हैं।
वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अैर नीति आयोग ने इस कंपनी को स्टार्टअप इकोसिस्टम में ’चैंपियंस ऑफ चेंज’ के रूप में मान्यता दी। इसने ’संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन’ (यूएनआईडीओ) द्वारा आयोजित ऊर्जा दक्षता श्रेणी में ’ग्लोबल क्लीनटेक इनोवेशन प्रोग्राम’ भी हासिल किया।
कंपनी ने हाल ही में सुमन कांत मुंजाल परिवार कार्यालय (हीरो ग्रुप) से धन राशि जुटाई है।

Related Articles

Close