NewsPolitics
Trending

5/5 इस बार नहीं मिलते दिख रहे उत्तराखंड में बीजेपी को

Spread the love

अमित पंत –

2014 में उत्तराखंड राज्य से पांचों सीटें भाजपा को मिली और अल्मोड़ा पिथौरागढ़ सीट से अजय टम्टा (कपडा राज्य मंत्री), नैनीताल उधम सिंह नगर से भगत कोश्यारी (पूर्व मुख्यमंत्री उत्तराखंड), टिहरी गढ़वाल से माला राज्यलक्ष्मी, हरिद्वार से डॉ रमेश पोखरियाल निशंक (पूर्व मुख्यमंत्री उत्तराखंड) और गढ़वाल से भुवन चंद्र खंडूरी (पूर्व मुख्यमंत्री उत्तराखंड) सांसद बन कर आये। अतिश्योक्ति नहीं होगी अगर कहा जाये तो ये सब अपने दम पर नहीं बल्कि मोदी लहर में जीते.

पर इस बार ऐसा नहीं लगता की उत्तराखंड को 5/5 मार्क्स मिलेंगे. कुछ सीट्स इस बार कांग्रेस के हिस्से में जा सकती हैं.

बात शुरू करते हैं अल्मोड़ा सीट की जहां के सांसद अजय टम्टा राज्य मंत्री पर अल्मोड़ा के लिए बेसिक काम नहीं हुए, जिसमें मेडिकल सबसे अहम् है. आज भी सरकारी हॉस्पिटल में डॉक्टर्स और सुविधाओं की कमी के चलते मरीजों को हल्द्वानी या दिल्ली रेफेर किया जाता है. यही नहीं कितने मरीज अल्मोड़ा हॉस्पिटल में उचित इमरजेंसी ट्रीटमेंट न मिलने के कारण स्वर्गीय हो जाते हैं. इसके अलावा मौजूदा विधायक भी इसके लिए कुछ खासा काम नहीं कर पा रहे हैं. इन सबके का फायदा कांग्रेस के प्रत्याशी और पूर्व सांसद (2009) प्रदीप टम्टा न ले जा लें, जो 2014 में आम आदमी पार्टी के आने से नुकसान में रहे.

दूसरी सीट हैं हल्द्वानी जहाँ इस बार भाजपा ने अजय भट्ट पर भरोसा जताया है और वहीं कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पर. यहाँ पर भी रावत को फायदा मिलने के पुरे चांस हैं.

अब देखना ये हैं की २३ को किसका मुँह मीठा होता है और किस का कड़वा

Related Articles

Close